Sad Shayari – Latest Sad Shayri in Hindi

मजबूरी में जब कोई जुदा होता है
जरुरी नहीं की वो बेवफा होता है
दे कर आपकी आँखों में आंसू
अकेले में आपसे भी ज्यादा रोता है …
Majboori mein jab koi judaa hota hai
Jaruri nhi ki wo bewafa hota hai
De kar aapki aankhon mein aansu
Akele mein aapse bhi jyaada rota hai…

उन जख्मो को भरने में वक़्त लगता है
जिनमे शामिल हो अपनों की मेहरबानियां …
Un jakhmo ko bharne me waqt lagta hai
Jinme shamil ho apno ki meharbaniyaan…

रुला कर उसने कहा अब मुस्कुराओ और हम भी मुस्कुरा दिए
क्यूंकि सवाल हंसी का नहीं उसकी ख़ुशी का था
Rula kar usne kaha ab muskrao aur hum bhi muskrat diye
Kyunki swaal hunsi ka nhi uski khushi ka tha

हम अपनी रूह तेरे जिस्म में ही छोड़ आये
तुझे गले से लगाना तो एक बहाना था ….
Hum apni rooh tere jism mein hi chod aaye
Tujhe gale se lagaana toh ek bhana tha….

हम न पा सके तुझे मुद्दतो से चाहने के बाद
और किसी ने अपना बना लिया तुझे चंद रश्मे निभाने के बाद
Hum na paa ske tujhe muddato se chahne ke baad
Aur kisi ne apna bna liya tujhe chand rashme nibhane ke baad
तन्हा रहना तो सीख लिया, पर खुश ना कभी रह पायेंगे, तेरी दूरी तो सह लेता दिल मेरा, पर तेरे प्यार के बिन ना जी पायेंगे…
Tanha Rahna To Sikh Liya, Par Khush Na Kabhi Rah Payenge, Teri Doori To Sah Leta Dil Mera, Par Tere Pyar Ke Bin Na Jee Payege..

Sponsored Links

 

कुछ न था मेरे पास खोने को
तू मिला तो डर गई हूँ मैं
Kuch na tha mere pass khone ko
Tu mila toh drr gai hun main

क्यों नहीं महसूस होती उसे मेरी तकलीफ
जो कहता था तुम्हे बहुत अच्छे से जानता हूँ
Kyu nhi mehsoos hoti usey meri takleef
Jo kehta tha tumhe bhut acche se jaanta hoon

सोचती थी मैं रह नहीं पाऊँगी तेरे बगैर
देखो तुमने ये भी सीखा दिया मुझको
Sochti thi main reh nhi paungi tere bgair
Dekho tumne yeh bhi sikha diya mujko

 

मत पूछो ये इश्क़ कैसा होता है
बस जो रुलाता है उसी को गले लगा कर
रोने को जी चाहता है
Mat pucho yeh ishq kaisa hota hai
Bas jo rulata hai usi ko gale lga kar
Rone ko jee chahta hai
मोहब्बत कितनी भी सच्ची हो,
बिना दर्द के नही की जा सकती.
Mohabbat kitni bhi sachi ho
Bina dard ke nhi ki ja skti

घायल कर के मुझे उसने पूछा, करोगे क्या फिर मोहब्बत मुझसे…?
लहू-लहू था दिल मगर होंठों ने कहा …
बेइंतहा…बेइंतहा।
Ghayal Kar Ke Mujhe Usane Puchha, Karoge Kya Phir Mohabbat Mujhase…?
Lahoo-lahoo Tha Dil Magar Honthon Ne Kaha …
Beintaha…Beintaha.
बिना आवाज किए रोना…
रोने से ज्यादा दर्द देता है
Bina awaaj kiye ronaa….
Rone se jyaada dard deta hai

सिमट गया मेरा प्यार चन्द लफ़्हज़ों में,
उसने कहा प्यार तो है पर तुमसे नहीं
किसी और से

Simat gya mera pyar chand lafjon mein
Usne kaha pyaar toh hai par tumse nhi kisi aur se