Sad Shayari – Latest Sad Shayri in Hindi

हम पर जो गुजरी है, तुम क्या सुन पाओगे,
नाजुक सा दिल रखते हो, रोने लग जाओगे 
Hum Par Jo Gujari Hai, Tum Kya Sunn Paaoge,
Naajuk Saa DIL Rakhte Ho, Rone Lag Jaaoge…

एक ही शख़्स से मतलब था,
पर अफ़सोस वो भी मतलबी निकला। …
Ek Hi शख़्स  se Matlab Tha,
Par Afsos Wo Bhi Matlabi Nikla…

जिस सितम के चलते मैं, मैं बना ,
उस सितम के लिए, ऐ जान तेरा शुक्रिया…
Jis Sitam K Chalte Me, Me Bana,
Us Sitam Ke Liye, Ae Jaan Tera Sukriya…

एक रात वो गया था जहां बात रोक के ,
अब तक रुका हू, वहीं रात रोक के ,
Ek Raat Wo Gya Tha Jaha Baat Rok Ke,
Ab Tak Ruka Hu, Wahi Raat Rok Ke…..

जिस रफ़्तार से तू निकल रही है न जिंदगी ,
एक चालान तो तेरा भी बनता है  . ….
Jis Raftaar Se tu Nikal Rahi Hai Na Jindgi,
Ek Chalan to Tera Bhi Banta Hai….

Sponsored Links

जब प्यार नहीं है तो भुला क्यों नहीं देते ,
खत किस लिए रखे हो जला क्यों नहीं देते  . …..
Jab Pyar Nahi Hai To,
Bhula Kyon Nahi Dete,
Khat Kis Liye Rakhe Ho…. 
Jala Kyon Nahi Dete….

शर्त ए मोहब्बत ये नहीं ,
हर वक़्त तेरा जिक्र हो,
खामोश धड़कनो में भी ,
तुम ही हो।  . . .
Shart-E-Mohbbat Ye Nahi,
Har Waqt Tera Jiakr Ho,
Khamoosh Dhandkano mein Bhi…
Tum Hi Ho….

ये साली यादों में EGO क्यों नहीं होती।  . . . …
Ye Saali Yadoon Me EGO Kyun Nahi Hoti…

मैं कितने भी रंगों में रंग जाऊ 
एक तेरा रंग ना लगे तो जिंदगी बेरंग सी लगती है। . . . .
Me Kitne Bhi Rangoo Me Rang Jau,
Ek Tera Rang Na Lage To Jindgi Berang Si Lagti Hai….q

सुनना चाहते हैं एक बार आवाज़ आपकी,
मगर बात करने का बहाना नहीं आता …
Sunana chahte hai ek Baar Awaaz Apki,
Magar Baat Karne ka Bahana Nahi Aata…

गज़ब का प्यार था उसकी उदास आँखों में,
महसूस तक ना होने दिया कि वो छोड़ने वाला है….
Gajab Ka Pyaar Tha Uski Udas Akhoon me,
Mahsos Tak Na Hone Diya Ki wo Chodne Wala Hai…

कुछ और नहीं बस जीने का हुनर दे दे, 
तेरे बगैर अब हमसे जिया नहीं जाएगा …
Kuch Aur Nahi Bas Jeene Ka Hunar De de,
Tere Bagair Ab Humse Jiya Nahi Jaayega…

अब तो आदत बन चुकी है ,
तुम दर्द दो और हम मुस्करायेंगे … 
Ab to Aadat Ban Chuki Hai,
Tum Dard Do Aur Hum Muskarynge…

जी भर के ज़ुल्म कर लो , 
क्या पता मेरे जैसा फिर कोई बेजुबान मिले या न मिले ….
Jee Bhar Ke Julm Kar Lo,
Kya Pata Mere Jaisa Fir Koi Bejubaan Mile Ya na Mile….